व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं परिभाषा, और 25 उदाहरण | Vyaktivachak Sangya Kise Kahate Hain

Amazon और Flipkart पर गारंटीड 50% से 60% तक की छुट पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े। ​

प्रिय पाठक! Allhindi के इस नए लेख में आप सभी का स्वागत हैं। आज की इस लेख में आप सभी जानेंगे की व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं [ Vyaktivachak Sangya Kise Kahate Hain ] इसकी परिभाषा, उदाहरण और भी बहुत कुछ जानेंगे। । इस लेख के ख़त्म होने तक आप सभी को सब कुछ पता चल जायेगा। इस लेख में अंत तक बने रहिये।

व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं Vyaktivachak Sangya Kise Kahate Hain

व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं [Vyaktivachak Sangya Kise Kahate Hain]

जब किसी भी विशेष व्यक्ति, वस्तु, स्थान को बोध कराने वाली संज्ञा को व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं। अर्थात इस परिभाषा को ऐसे भी परिभाषित कर सकते है-  जिस शब्द से किसी विशेष व्यक्ति वस्तु स्थान का बोध होता हो ऐसे शब्द को व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं व्यक्तिवाचक संज्ञा को ही इंग्लिश में प्रॉपर नाउन कहा जाता है।
आइए में कुछ उदाहरणों के माध्यम से समझा जाता है 

व्यक्तिवाचक संज्ञा के उदाहरण: 

व्यक्तियों के नाम: सचिन तेंदुलकर, महेंद्र सिंह धोनी, रमेश, सुरेश, गुंजा, राजेश, महेश, दुर्गेश इत्यादि।

स्थान के नाम: गुजरात, लखनऊ, नई दिल्ली, दिल्ली, चेन्नई, सिंगापुर, राजस्थान, पंजाब, अमेरिका, भारत, दिल्ली, पाकिस्तान।

राष्ट्रीय जातियों के नाम:  भारतीय कृषि अमेरिकी जापानी इत्यादि।

समुद्रों के नाम: काला सागर, हिंद महासागर, प्रशांत महासागर।

समाचार पत्रों के नाम: दैनिक जागरण, अमर उजाला, पत्रिका,इत्यादि।

सरकारी योजनाओं के नाम: जन धन योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना आदि।

खेलों के नाम: शतरंज, टेनिस, फुटबॉल, जैवलिन थ्रो (भाला फेंक)।

दिनों एवं महीनों के नाम: अक्टूबर, जनवरी, मार्च, अप्रैल, सोमवार, मंगलवार, बुधवार, गुरुवार, मई, अप्रैल, जून।

त्योहारों के नाम: दीपावली, रक्षाबंधन, ईद, मुहर्रम, ताजिया, इत्यादि।

ऊपर हमने आपको बहुत सारे उदाहरण बताएं हैं इनको पढ़कर आपकी समझ में कुछ कर सकते हैं कि व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं या फिर किस प्रकार से हम उन्हें परिभाषित कर सकते हैं आगे हम जानेंगे कि व्यक्तिवाचक संज्ञा को  कैसे पहचाने।

व्यक्तिवाचक संज्ञा को कैसे पहचाना जाए 

  • व्यक्तिवाचक संज्ञा का प्रयोग अक्सर एकवचन में किया जाता है। व्यक्तिवाचक संज्ञा को एक वचन से बहुजन में तथा बहुवचन से एक वजन में नहीं बदला जा सकता है।
  • व्यक्तिवाचक संज्ञा विशेषण की तरह कार्य करता है।
  • व्यक्तिवाचक संज्ञा शब्द से भाववाचक संज्ञा शब्द को नहीं बनाया जा सकता है।

व्यक्तिवाचक संज्ञा के 20 उदाहरण

  1. राजेश एक ईमानदार व्यक्ति है।
  2. जितेंद्र एक डॉक्टर है। 
  3. सचिन तेंदुलकर एक महान क्रिकेटर हैं।
  4. क्रिकेट एक बहुत अच्छा खेल है।
  5. प्रत्येक भारतीय दीपावली को बड़ी ही धूमधाम से मनाते हैं।
  6. सानिया नेहवाल एक महान बैडमिंटन खिलाड़ी हैं।
  7. गंगा नदी से भारत की बहुत सारी पौराणिक कथाएं जुड़ी हुई है।
  8. रविंद्र नाथ टैगोर जी के द्वारा भारत का राष्ट्रगान लिखा गया था।
  9. मुंबई को मायानगरी भी कहा जाता है।
  10. कुतुबमीनार घूमने के लिए सबसे अच्छी जगह है।
  11. भारत रत्न किसी भी व्यक्ति को मिलना एक सम्मानीय बात है।
  12. कोहिनूर हीरा विश्व में काफी प्रसिद्ध है।
  13. भीमराव अंबेडकर के द्वारा भारत का संविधान लिखा गया था।
  14. अमेजन नदी विश्व की सबसे लंबी नदी है।
  15. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के आज भी बहुत सारे युवाओं के प्रेरक हैं।
  16. जहां तक मैं जानता हूं वह व्यक्ति अमेरिका में रहता है।
  17. छोटे बच्चों को हिंदी कहानियां सुनना बहुत ही अच्छे लगते हैं।
  18. सुरेश प्रतिदिन दैनिक जागरण में छपी समाचारों को पढ़ता है।
  19. अमिताभ बच्चन आज भारत के महान कलाकारों में सूची में शामिल हैं।
  20. राजेश लखनऊ में रहता हैं।

इस लेख के अंत में

उम्मीद करता हूँ की आपको यह लेख पसंद आई होगी। इस लेख को पढने के बाद आप यह जान चुके होंगे की व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं [Vyaktivachak Sangya Kise Kahate Hain] । अगर आपको इस लेख से कुछ भी सीखने को मिला हो तो आप इस लेख को जरूरतमंद दोस्तों को भी साझा कर सकते हैं। इस लेख को पढ़ने तथा अपना कीमती समय देने के लिए धन्यवाद।

प्रश्न: क्या व्यक्तिवाचक संज्ञा को बहुवचन में बदला जा सकता हैं?

उत्तर: नहीं

प्रश्न: व्यक्तिवाचक संज्ञा के 5 उदाहरण दीजिये|

उत्तर: सचिन तेंदुलकर, महेंद्र सिंह धोनी, रमेश, सुरेश, गुंजा, राजेश, महेश, दुर्गेश

प्रश्न: व्यक्तिवाचक संज्ञा को कैसे पहचान किया जाये?

उत्तर: व्यक्तिवाचक संज्ञा का प्रयोग अक्सर एकवचन में किया जाता है। व्यक्तिवाचक संज्ञा को एक वचन से बहुजन में तथा बहुवचन से एक वजन में नहीं बदला जा सकता है।
व्यक्तिवाचक संज्ञा विशेषण की तरह कार्य करता है।
व्यक्तिवाचक संज्ञा शब्द से भाववाचक संज्ञा शब्द को नहीं बनाया जा सकता है।

Facebook
Twitter
WhatsApp
Telegram

Leave a Comment

Trending Post

Request For Post