उपसर्ग किसे कहते हैं , परिभाषा व 3 भेद – कक्षा 5,6,7,8,9,10 वालो के लिए

Amazon और Flipkart पर गारंटीड 50% से 60% तक की छुट पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े। ​

नमस्कार दोस्तों, आज की इस लेख में आप सभी को उपसर्ग के बारे में बताया जायेगा। आज की इस लेख में आपको उपसर्ग की परिभाषा, उपसर्ग किसे कहते हैं उपसर्ग के प्रकार, उपसर्ग के भेद के बारे में जानेंगे।यह लेख आपको उपसर्ग के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करेंगे।

उपसर्ग की परिभाषा

उपसर्ग किसे कहते हैं

उपसर्ग की परिभाषा: उपसर्ग दो शब्दों से मिलकर बनता है। उप+सर्ग यहां उप का अर्थ होता है कमी समीप तथा स्वर्ग का अर्थ होता है सृष्टि करना या नए शब्द बनाना। जब किसी शब्द के शुरुआत में कोई शब्दांश जुड़कर उसके अर्थ को बदल दे या शब्द में कुछ विशेषता प्रदान करें ऐसे शब्दों को उपसर्ग कहते हैं। आइए इन्हें निम्न उदाहरण से समझते हैं।

उदाहरण: हार एक ऐसा शब्द है जिसका अर्थ होता है पराजय होना या हारना; लेकिन इस शब्द आगे आ जोड़ देने से यह शब्द आहार में बदल जाएगा। आहार शब्द का अर्थ होता है भोजन।

उपसर्ग किसे कहते हैं [ Upsarg Kise Kahate Hain ]

जब कोई शब्दांश मूल शब्द के आरंभ में जुड़ कर उसके अर्थ को परिवर्तित कर दें या फिर अर्थ में कुछ विशेषता प्रदान कर दें ऐसे शब्द को हम उपसर्ग कहते हैं। उपसर्ग सार्थक नहीं होते इसलिए इनका प्रयोग स्वतंत्र रूप से नहीं हो सकता।

जैसे: अतिप्रिय, अत्यंत, अधिकार, अधिग्रहण, अपकार, अपमान, अवगुण, अवनति, इत्यादि इन शब्दों में आप यह देख पा रहे होंगे कि प्रारंभ में कुछ शब्दांश को जोड़ देने से उनके अर्थ में परिवर्तन हो जा रहा है। अतः इस प्रकार के शब्दों को हम उपसर्ग कहते हैं।

उपसर्ग की कुछ विशेषताएं:

उपसर्ग की तीन विशेषताएं होती हैं जो कि निम्न है।

  • उपसर्ग का प्रयोग शब्द के अर्थ में नई विशेषता लाने के लिए किया जाता है।
  • शब्द के अर्थ को उलट देना उपसर्ग कई बार शब्द के अर्थ को उलट देता है अर्थात उनके अर्थ को पूरी तरह से बदल देता है।
  • कई बार उपसर्ग का प्रयोग करके हम उस शब्द को कोई कोई खास अर्थ प्रदान नहीं करते हैं बल्कि उनके मूल अर्थ को भी इर्द-गिर्द कर देते हैं।

उपसर्ग के भेद / उपसर्ग के प्रकार

अभी तक आपने उपसर्ग की परिभाषा और कुछ उदाहरण समझा अब आप उपसर्ग की परिभाषा तथा प्रकार के बारे में जानेंगे।

  1. संस्कृत के उपसर्ग
  2. हिंदी के उपसर्ग
  3. अंग्रेजी के उपसर्ग
  4. अरबी फारसी के उपसर्ग
उपसर्ग किसे कहते हैं

संस्कृत के उपसर्ग

संस्कृत में 21 उपसर्ग होते हैं। यह हमेशा मूल शब्द के आगे लगते हैं और एक से दो अक्षर लम्बे ही होते हैं। संधि के बाद जो नया शब्द बनता है, वह मूल शब्द में कुछ-न-कुछ विशिष्ट जोड़ देता है। संस्कृत के 21 उपसर्ग, उनके अर्थ

उदाहरण:

क्रम सoउपसर्गअर्थउदाहरण
1.अतिअधिक सीमा से परेअतिवृद्धि, अत्युक्ति, अत्याचार
2.अधिश्रेष्ठ अधिकृत, अध्यवसाय, अधिकारसमीपता अधिक, ऊपर,
3.अनुपीछे, क्रम, समानताअनुमान, अनुकूल, अनुप्रास 
4.अप बुरा, अभाव,विपरीत अपराध, अपहरण, अपशब्द 
5.अभिसामने, अधिक, इच्छा अभिमान, अभिलाषा, अभियान 
6.अव पतन, हीनता अवनति, अवगुण, अवमानना 
7.तक, सब तरफ से, ओर आदर, आडम्बर, आचरण
8.उत, उद्द ऊपर, अधिक उद्भभव,उत्संग,उद्दगम,उत्पात, उत्पन्न 
9.उप समीप, सहायक, छोटा उपयुक्त, उपहार, उपद्रव, उपसंपादक 
10.दु: (दूर,दुस)बुरा, दुष्ट, कठिनदुर्गम, दुष्कर, दुर्लघ्य, दुर्लभ,दुर्जन 
11.नि बहुत- नीचे, अलावा निवास, निवेदन, निकट, निबंध, निदान 
12.नि: (निस्स, निर) बिना, बाहर, निषेध निर्देश, निराकरण, निर्जीव, निष्काम, नि:शब्द 
13.परा विपरीत, अनादर पराधीन, पराकाष्ठा, परार्ध, परामर्श, पराविद्या 
14.परि चारो ओर, आस पास परिचय, परिणाम, परिसर, परित्याग 
15.प्र अधिक, ऊपर, आगे, गति प्रणाम, प्रख्यात, प्रगति, प्रवेग, प्रयोग 
16.प्रति विपरीत, समान, प्रत्येक, परिवर्तन प्रतिकूल, प्रतिमूर्ति, प्रतिदिन, प्रतिहिंसा
17.वि विशेष, रहित, विपरीत, भिन्न विहार, विरह, विपक्ष, वियोग, विदेश, विवाद, विमर्श
18.समसंयोग, पूर्णता संतोष, संचय, संभाषण, सन्देश 
19.सु अच्छा, सरल स्वागत, सुवासित, सुअवसर, सुकवि 
संस्कृत उपसर्ग का उदाहरण


हिंदी के उपसर्ग

हिंदी के उपसर्ग 12 प्रकार के होते है।

क्रम सoउपसर्गअर्थउदाहरण
1.अ/अन्निषेध, अभावअपढ़, अलग, अनाम, अजान, अथाह, अनपढ़, अनमोल, अनगढ़, अनिच्छा
2.अध्आधाअधखिला, अधपका, अधकचरा
3.उन एक कम उनचास, उनहतर, उनतालीस 
4.औ(अव)हीनता, नहीं औघड़, औघट, अवगुण 
5.क,कु बुरा कुपात्र, कुलेख, कूपुत, कुचाल 
6.स,सु अच्छा, सहित सगोत्र, सरस, सहित, सजग, सुकर्मं, सुपुत, सुजान 
7.दु बुरा, हीन दुकाल, दुलारा, दुसाध्य
8.नि नहीं, अभाव निधड़क, निडर, निकम्मा 
9.बिन बिना, निषेध बिनबादल, बिनपाए, बिन्ब्याहा 
10.भर पूरा भरपूर, भरपेट, भरमार, भरसक 


अंग्रेजी के उपसर्ग

अंग्रेजी के उपसर्ग 9 प्रकार के होते है|

क्रम सoउपसर्गअर्थउदाहरण
1.सब अधीन, नीचे सब-जज , सब कमेटी 
2.डिप्टी सहायक डिप्टी कलेक्टर, डिप्टी रजिस्ट्रार
3.वाइससहायक वाइसराय, वाइस चांसलर 
4.जनरल प्रधान जनरल मैनेजर, जनरल सेक्रेटरी 
5.चीफ प्रमुख चीफ मिनिस्टर, चीफ इन्जीनियर 
6.हेड मुख्य हेड मास्टर, हेड क्लर्क 
7.डबल दुगुना डबल रोटी, डबल ब्रेड
8.फूल पूरा फूल शर्ट, फूल प्रूफ 
9.हाफ आधा हाफ शर्ट, हाफ पैंट

अरबी-फारसी के उपसर्ग

1.कम थोडा, हीन कमजोर, कमअक्ल, कमउम्र 
2.खुश अच्छा खूसबू, खुशदिल, खुशहाल
3.गैर नहीं , अभाव गैरहाजिर, गैर कानूनी, गैर- सरकारी 
4.दर में दरसल, दरमियाँ, दरकार 
5.ना अभाव में बनाम, बदस्तूर, बदौलत 
6.अल निश्चित अलबत्ता, अलमस्त, अलगरज 
7.बिल के साथ बिलकूल, बिलआखिर, बिलवजह 
8.बर ऊपर, पर, बाहरबर्दाश्त, बर्खाश्त 
9.फिल/ फी में , प्रति फ़िलहाल, फीआदमी 
10.बद बुरा बदमाश, बदनीयत, बदतमीज 
11.बा साथ बाइन्साफ, बाकायदा, बावफा
12.बिला बिनाबिलाकसूर, बिलाशक 
13.बे बिनाबेईमान, चेहरा
14.ला बिना लाचार, लाजवाब 
15.सर मुख्यसरदार, सरताज 
16.हम बराबर हमउम्र, हमवतन 
17.हर प्रत्येक हररोज, हरएक 

उपसर्ग से जुड़े कुछ प्रश्न

प्रश्न: उपसर्ग की परिभाषा क्या हैं?

उत्तर: जब किसी शब्द के शुरुआत में कोई शब्दांश जुड़कर उसके अर्थ को बदल दे या शब्द में कुछ विशेषता प्रदान करें ऐसे शब्दों को उपसर्ग कहते हैं। आइए इन्हें निम्न उदाहरण से समझते हैं।

प्रश्न: उपसर्ग की कौन कौन सी विशेषताएं हैं?

उत्तर: उपसर्ग का प्रयोग शब्द के अर्थ में नई विशेषता लाने के लिए किया जाता है।
शब्द के अर्थ को उलट देना उपसर्ग कई बार शब्द के अर्थ को उलट देता है अर्थात उनके अर्थ को पूरी तरह से बदल देता है।
कई बार उपसर्ग का प्रयोग करके हम उस शब्द को कोई कोई खास अर्थ प्रदान नहीं करते हैं बल्कि उनके मूल अर्थ को भी इर्द-गिर्द कर देते हैं।

इससे सम्बंधित लेख:

समास किसे कहते हैं
क्रिया किसे कहते हैं

इस लेख के बारे में:

उम्मीद करता हूँ की आपको यह दी गयी जानकारी लेख (उपसर्ग किसे कहते हैं) के माध्यम से पसंद आई होगी। अगर इस लेख से जुड़े आपके कोई सवाल या सुझाव हो तो आप हमे कमेंट कर सकते है। अगर आपका कोई सवाल इंग्लिश से हो तो आप हमे अपना प्रश्न Comment करके पूछ सकते है। ऐसे ही लेख और जानकारियाँ प्राप्त करने के लिए आप हमारे ब्लॉग को प्रतिदिन visit कर सकते है या नए पोस्ट की जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारे ब्लॉग को suscribe भी कर सकते है। धन्यवाद

Facebook
Twitter
WhatsApp
Telegram

Leave a Comment

Trending Post

Request For Post