टीथर क्या है | Tether Kya Hai

Tether Kya Hai: क्रिप्टो करेंसी के लगातार उतार-चढ़ाव के कारण लोगों को एक ऐसा स्टेबल कॉइन चाहिए, जिसके ऊपर क्रिप्टो करेंसी के उतार-चढ़ाव का ज्यादा प्रभाव न पड़े। क्रिप्टो कॉइन मार्केट बहुत ऊपर जाये या बहुत नीचे जाये तब भी वह कुछ हद तक वही स्टेबल रहे। या कह सकते हैं कि क्रिप्टो मार्केट का उसके ऊपर कम से कम प्रभाव पड़े। किसी कारण टीथर का जन्म हुआ। इसे इस प्रकार डिजाइन किया गया है कि क्रिप्टो मार्केट के उतार-चढ़ाव से इसके ऊपर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। इसके लिए टीथर का स्टेबल कॉइन ज्यादा लोग प्रयोग करते हैं। तो आइए इस लेख में जानते हैं कि टीथर क्या है?, टीथर कैसे काम करता है?, टीथर के फायदे क्या है?, टीथर के नुकसान क्या है? टीथर के ऊपर अभी तक कितने आरोप लगे हैं? तो चलिए शुरू करते हैं-

 Tether Kya Hai
Tether Kya Hai

टीथर क्या है (Tether Kya Hai)

टीथर एक स्टेबल क्रिप्टो कॉइन है। टीथर अपनी खुद की सेल्फ डेवलप्ड ब्लॉकचेन पर कार्य करता है। टीथर एक डिजिटल क्रिप्टो करेंसी है, जो अमेरिकन करेंसी डॉलर से जुड़ा हुआ है। एक टीथर की कीमत लगभग एक अमेरिकी डॉलर के बराबर माना जाता है। इस तरह हम कह सकते हैं कि टीथर के पास अमेरिकी डॉलर का भंडार है। टीथर डिजिटल क्रिप्टो करेंसी को क्रिप्टो करेंसी (मार्केट के अनुसार) रिजर्व या स्टोर करके उपयोग करने के लिए बनाया गया था।

इसको टोकन के रूप में USDT (United State Department Of Treasury) के नाम से जाना जाता है। टीथर को रियल कॉइन के नाम से भी जाना जाता है। 

टीथर दुनिया की सबसे पुरानी स्टेबल कॉइन है, इसलिए लोग इसके ऊपर अधिक ट्रस्ट करते हैं और इसका उपयोग करते हैं।

टीथर का मालिक कौन हैं?

टीथर को साल 2014 में Brock Pierce, Reeve Collins और Craig Sellars के द्वारा रियल कॉइन के रूप में लांच किया।

टीथर को बनाने के पीछे इसके फाउंडर्स का विचार एक स्टेबल क्रिप्टो करेंसी बनाना था। जिसका उपयोग डिजिटल डॉलर या स्टेबल करेंसी की तरह किया जा सकता हो। हालांकि शुरुआती दिनों में टीथर बिटकॉइन नेटवर्क के ओमनी ब्लॉकचेन को अपने ट्रांसफॉरमेशन प्रोटोकोल (क्रिप्टो कॉइन से यूएसडीटी में परिवर्तन तथा यूएसडीटी से क्रिप्टो कॉइन में परिवर्तन) के रूप में इस्तेमाल किया। परंतु अब यह मल्टीपल ब्लॉकचेन पर अपने स्टेबल कॉइन को जारी कर सकता है। वर्तमान में टीथर, बिटकॉइन के ओमनी और लिक्विड प्रोटोकोल, इथेरियम के IOS और Tron एवं अन्य बहुत सारे ब्लॉकचेन पर जारी किया जाता है।

टीथर की विशेषता

  • चूंकि क्रिप्टो करेंसी की कीमत बहुत तेजी के साथ घटती बढ़ती रहती है इसलिए इस तरह की परेशानी से बचने के लिए टीथर का प्रयोग किया जाता है अर्थात जब कभी क्रिप्टो कॉइन की कीमत ऊपर जाता है तो लोग टीथर की मदद से कॉइन को बेच देते हैं और जब नीचे आता है तो खरीद लेते हैं।
  • कभी-कभी क्रिप्टो कॉइन मार्केट में बहुत ज्यादा उतार-चढ़ाव होता है इस सिचुएशन में स्टेबल कॉइन टीथर का प्रयोग किया जाता है
  • टीथर एक स्टेबल कॉइन होने के बावजूद भी लोग इसे खरीदना या बेचना बहुत ज्यादा पसंद करते हैं।
  • टीथर में एक ऐसा Mechanism सिस्टम जोड़ा गया है जो सप्लाई को आटोमेटिक Burn और Maintain करता है।
  • क्रिप्टो कॉइन में उतार-चढ़ाव बहुत ज्यादा मात्रा में होता है। इसलिए टीथर में जब भी कोई पेमेंट ट्रांसफर करना होता है, तो लोग मोस्टली स्टेबल कॉइन का सहारा लेते हैं।
  • टीथर का प्रयोग करके ऑल ओवर वर्ल्ड में कहीं भी पेमेंट आसानी से भेजा जा सकता है।

टीथर कैसे काम करता है?

टीथर टोकन हमेशा 1:1 रेशियो पर कार्य करता है, मतलब टीथर वॉलेट मे क्वाइन बर्न होते हैं यहां पर बर्न होने का मतलब यह है कि क्रिप्टो कॉइन मार्केट में जब अत्यधिक मात्रा में उतार-चढ़ाव होता है और लोग कॉइन को टीथर टोकन के रूप में अधिक Sale या Buy करने लगते है। तब टीथर टोकन की मात्रा अत्यधिक होने पर इसकी ब्लॉकचेन सिस्टम अधिक मात्रा में उपलब्ध टीथर टोकन को एक सुरक्षित वॉलेट में रख देती है इस प्रक्रिया में जितनी क्वाइन बर्न होती है, उसको इसमें लगा मेकैनिज्म सिस्टम मैनेज कर लेता है।

टीथर का उपयोग किस लिए किया जाता है?

टीथर एक स्टेबल कॉइन है इसलिए इसका सबसे अधिक प्रयोग क्रिप्टो मार्केट में क्रिप्टो करेंसी के अत्यधिक उतार-चढ़ाव से बचाव के तरीकों में किया जाता है। हालांकि प्रत्येक यूएसडीटी टोकन कहीं ना कहीं अमेरिकन डॉलर से जुड़ा हुआ है। एवं टीथर के पास डॉलर का भंडार है। इसलिए टीथर में क्रिप्टो करेंसी रिजर्व या स्टोर करने से यह क्रिप्टो करेंसी को बाजार के सामान्य उतार-चढ़ाव से बचाता है। इन्हीं सब फैक्ट्स के आधार पर बिटकॉइन का एक बहुत बड़ा हिस्सा टीथर में रिजर्व एवं स्टोर किया जाता है। क्योंकि यह क्रिप्टो ट्रेडिंग के लिए एक Fiat डिपॉजिट ऑन और आप प्लेटफार्म हो सकता है।

टीथर के फायदे क्या है?

  • यह एक स्टेबल कॉइन है जिसके कारण इसके कीमत में उतार-चढ़ाव ना के बराबर होता है।
  • जब भी लोगों को लगता है कि क्रिप्टो करेंसी मार्केट में बहुत अधिक उतार-चढ़ाव है, तो लोग आसानी से अपने क्रिप्टो करेंसी को यूएसडीटी में बदलकर स्टोर कर सकते हैं।
  • टीथर मल्टीपल ब्लॉकचेन में स्टेबल कॉइन जारी कर सकता है।
  • टीथर का प्रयोग करना बहुत ही आसान है। इसमें क्रिप्टो करेंसी को रिजर्व एवं स्टोर करके रख सकते हैं।
  • अगर आपको दुनिया में किसी को भी पैसे भेजना या मंगाना है तो बहुत ही आराम से भेजा या मंगाया जा सकता है।

टीथर के नुकसान क्या है?

  • टीथर एक स्टेबल कॉइन है जिसके कारण इसके कीमत में कोई खास उतार-चढ़ाव देखने को नहीं मिलता है। अतः इसमें निवेश करने का कोई खास रिटर्न्स नहीं मिलता है।
  • टीथर खासतौर पर रिजर्व और स्टोर के उद्देश्य को ध्यान में रखकर बनायी गई है। परंतु कभी-कभी अधिक लेन देन के कारण टीथर  स्टोर का क्रैश होने की संभावना बढ़ जाती  है।
  • पिछले मुझे वर्षों में टीथर नेटवर्क को कई बार हैक किया जा चुका है जिसके कारण निवेशकों एवं टीथर कम्पनी को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा है।
  • कभी-कभी टीथर के बैंकिंग सिस्टम फेल हो जाते हैं, जिससे यूजर को भारी नुकसान की संभावना बढ़ जाती है।
  • टीथर का लगभग पूरा सिस्टम BitFinex पर निर्भर है। यदि किसी वजह से BitFinex तीतर की रिजर्व एवं स्टोर को रोक देता है तो इससे टीथर कम्पनी तथा निवेशकों को भारी नुकसान सहना पड़ सकता है।

टीथर का भविष्य क्या है?

टीथर का भविष्य है या नहीं यह कई सारे फैक्ट्स पर निर्भर करता है। चूंकि टीथर क्रिप्टो कॉइन को रिजर्व एवं स्टोर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। टीथर द्वारा क्रिप्टो कॉइन को रिजर्व एवं स्टोर करने के लिए बिटफाइनेक्स कंपनी की सिस्टम की आवश्यकता पड़ती है। मतलब टीथर लगभग पूरी तरह से बिटफाइनेक्स सिस्टम पर निर्भर है।

यदि भविष्य में किसी कारणवश यदि बिटफाइनेक्स ने टीथर के क्रिप्टो कॉइन को रिजर्व या स्टोर करने से मना कर देता है, तो टीथर एवं निवेशकों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। इस तथ्य को देखकर यह तो नहीं कहा जा सकता कि टीथर का भविष्य सही नहीं है फिर भी यह एक चिंता का विषय है।

कुछ वर्षों में कई बार टीथर नेटवर्क को हैकर्स के द्वारा हैक कर लिया गया था और भारी मात्रा में स्टोर क्रिप्टो करेंसी की चोरी हो गई थी, जिसके कारण टीथर एवं निवेशकों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा था। परंतु बाद में टीथर ने Hard Fork का इस्तेमाल करके चोरी किए हुए क्रिप्टो कॉइन को कुछ हद तक रिकवर कर लिया था। टीथर डेवलपर्स के लिए यह भी एक चिंता का विषय है।

लोगों के बीच स्टेबल कॉइन की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि भविष्य में टीथर का अपना सेल्फ डेवलप्ड क्रिप्टो वॉलेट मार्केट में लांच करने की संभावना है। तथा उसे और अधिक यूनिक एवं सुरक्षित बनाने के प्रयास कर सकता है।

टीथर से संबंधित कॉन्ट्रोवर्सी एवं आरोप

टीथर के साल 2014 में स्टार्ट होने के बाद से अभी तक इस पर बहुत सारी कॉन्ट्रोवर्सी और आरोप लगने भी शुरू हो गई थी। नीचे इससे संबंधित कॉन्ट्रोवर्सी एवं आरोप दिए जा रहे हैं-

  • कई बार टीथर के ऊपर यह आरोप लगे कि इनका बैंकिंग सिस्टम सही नहीं है।
  • इसके ऊपर यह आरोप भी लगे हैं कि इनके कॉइन स्टोर का रेशियो 1:1 का नहीं है।
  • कुछ लोगों का मानना था कि यह थर्ड पार्टी ऑडिट का प्रयोग करते हैं जबकि टीथर का यह दावा है कि उन्होंने हमेशा सेल्फ ऑडिट किया है और उसकी रिपोर्ट भी पब्लिकली नहीं की है।
  • नवंबर 2017 में इनके ऊपर 31 मिलियन हैकिंग की न्यूज़ आई जिसके बारे में सफाई देते हुए उन्होंने कहा कि हैकिंग में हुई फंड को रिकवर करने के लिए हार्ड फार्क करने जा रहे हैं, यह टेंपरेरी होगा और जैसे ही फंड रिकवर होगा हार्ड फार्क को रिमूव कर दिया जाएगा।
  • नवम्बर 2018 में,  BitFinex ने 15 दिनों के लिए टीथर के डिपॉजिट को रोक दिया था मतलब कोई भी Fiat डिपाजिट नहीं कर सकता है जिसकी वजह से टीथर क्रैश हो गया था मतलब उसका प्राइज नीचे आ गया था।

प्रश्न: टीथर किस रेशियो पर काम करता है?

उत्तर: टीथर 1:1 रेशियो पर काम करता है।

प्रश्न: यूएसडीटी का फुल फॉर्म क्या है?

उत्तर: USDT का फुल फॉर्म United State Department Of Treasury होता है।

प्रश्न: टीथर को किस नाम से जाना जाता है?

उत्तर: स्टेबल कॉइन, रियल कॉइन

प्रश्न: टीथर किस सिस्टम पर क्रिप्टो करेंसी स्टोर करता है?

उत्तर: BitFinex सिस्टम।

Scroll to Top