क्रिया विशेषण किसे कहते हैं (परिभाषा, भेद, और उदाहरण)

Amazon और Flipkart पर गारंटीड 50% से 60% तक की छुट पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े। ​

प्रिय पाठक! Allhindi के इस नये लेख में आपका स्वागत हैं। आज की इस लेख में आप क्रिया विशेषण किसे कहते हैं, इसकी परिभाषा, भेद तथा उदाहरण के बारे में आप सभी को विस्तार से बताया जायेगा। क्रिया विशेषण को जानने से पहले आप सभी विशेषण के बारे में अच्छे से जानकारी प्राप्त कर ले। क्योकि विशेषण को समझे बिना आप क्रिया विशेषण को नहीं समझ पाएंगे।

क्रिया विशेषण किसे कहते हैं

क्रिया-विशेषण (Adverb):- जो शब्द क्रिया की विशेषता बताता हो या फिर उस क्रिया के बारे में अतरिक्त जानकरी देता हो उसे क्रिया विशेषण कहते हैं। क्रिया-विशेषण से क्रिया के समय, स्थान, ढंग और मात्रा का बोध होता है।

उदाहरण:- अनुभव तेज दौड़ता है।
शोभित बाहर खड़ा है।
कछुआ धीरे-धीरे चलता है।

क्रिया विशेषण किसे कहते हैं

क्रिया-विशेषण के भेद (Kinds of Adverb):- क्रिया-विशेषण के निम्नलिखित चार भेद होते हैं-

  1. रीतिवाचक क्रिया-विशेषण
  2. कालवाचक क्रिया-विशेषण
  3. स्थानवाचक क्रिया-विशेषण
  4. परिमाणवाचक क्रिया-विशेषण

रीतिवाचक क्रिया विशेषण किसे कहते हैं

रीतिवाचक क्रिया-विशेषण की परिभाषा: जिन शब्दों से क्रिया के होने की रीति के ढंग का बोध हो, उन्हें रीतिवाचक क्रिया-विशेषण कहते हैं। जैसे: तेज, धीरे-धीरे, जल्दी-जल्दी, अचानक, जोर से, चुपके-चुपके, धीरे से आदि।

उदाहरण:- घोड़ा तेज दौड़ता है।
बच्चा जोर-जोर से रो रहा है।

ऊपर के वाक्यों में ‘ तेज़’ और’ ज़ोर-जोर’ शब्द क्रिया के होने के ढंग का बोध कराते हैं, अत: ये रीतिवाचक क्रिया-विशेषण है।

पहचान:- इसकी पहचान के लिए क्रिया में “कैसे” लगाकर प्रश्न पूछने से प्राप्त होने वाले उत्तर ही रीतिवाचक क्रिया-विशेषण होते हैं।

कालवाचक क्रिया विशेषण किसे कहते हैं

कालवाचक क्रिया-विशेषण (Adverb of Time):- जिन शब्दों से क्रिया के होने के काल (समय) का बोध हो, उन्हें कालवाचक क्रिया-विशेषण कहते हैं। जैसे: कभी कभी, प्रतिदिन, सदैव, हमेशा, दिन भर, सुबह, कल, परसों, हर बार, लगातार, निरंतर, आज, शाम आदि।

उदाहरण:- यह प्रतिदिन स्कूल जाती है।
कल्पना सदैव मुसकराती रहती है।

ऊपर के वाक्यों में ‘प्रतिदिन‘ और ‘सदैव‘ शब्द क्रिया के समय का बोध करा रहे हैं, अत: ये कालवाचक क्रिया-विशेषण है।

पहचान: इसकी पहचान के लिए क्रिया में कब लगाकर प्रश्न करने से जो उत्तर प्राप्त हो, वह कालवाचक क्रिया विशेषण होगा।

3. स्थानवाचक क्रिया-विशेषण (Adverb of Place):- जिन शब्दों से क्रिया के होने या करने के स्थान या दिशा का बोध हो, उन्हें स्थानवाचक क्रिया-विशेषण कहते हैं। जैसे: यहाँ, वहाँ, जहाँ, बाहर, भीतर, आगे, पीछे, ऊपर, नीचे, इधर-उधर, दूर, पास, कहाँ आदि।

उदाहरण:- मुकेश ऊपर बैठा है।
वैभवी बाहर खेल रही है।

ऊपर के वाक्यों में ‘ऊपर’ और ‘बाहर’ शब्द क्रिया के स्थान का बोध कराते हैं, अतः ये स्थानवाचक क्रिया-विशेषण है।

पहचान:- स्थानवाचक क्रिया विशेषण की पहचान के लिए क्रिया में ‘कहाँ‘ लगाकर प्रश्न करने से जो उत्तर मिले, वह स्थानवाचक क्रिया-विशेषण होगा।

परिमाणवाचक क्रिया विशेषण किसे कहते हैं

परिमाणवाचक क्रिया विशेषण की परिभाषा (Adverb of Quantity):- जिन शब्दों से क्रिया के परिमाण या मात्रा का बोध हो, उन्हें परिमाणवाचक क्रिया-विशेषण कहते हैं। जैसे: बस, जरा, इतना, कितना, कम, लगभग, काफ़ी, पर्याप्त, थोड़ा-सा कुछ, अधिक, बिलकुल आदि ।

उदाहरण:- मयंक कम बोलता है।
अधिक खाना हानिकारक होता है।

ऊपर के वाक्यों में’ कम‘ और ‘अधिक‘ शब्द क्रिया की मात्रा का बोध करा रहे हैं, अत: वे परिमाणवाचक क्रिया-विशेषण है।

पहचान:- इसकी पहचान के लिए क्रिया में ‘कितना ‘या’ कितनी’ लगाकर प्रश्न करने से प्राप्त होने वाले उत्तर ही परिमाणवाचक क्रिया-विशेषण होते हैं।

क्रिया विशेषण के 10 उदाहरण:

  1. श्याम धीरे धीरे बोलता हैं।
  2. अधिक दौड़ने से स्वास्थ्य ख़राब हो सकता हैं।
  3. राजन बहुत कम चाय पीता हैं।
  4. वह सोहन से बहुत अधिक बात करता हैं।

इससे सम्बंधित लेख: संधि की परिभाषा, भेद और उदाहरण
कारक की परिभाषा भेद और उदाहरण

क्रिया विशेषण से जुड़े कुछ सवाल जवाब:

प्रश्न: क्रिया विशेषण किसे कहते हैं

उत्तर: जो शब्द क्रिया की विशेषता बताता हो या फिर उस क्रिया के बारे में अतरिक्त जानकरी देता हो उसे क्रिया विशेषण कहते हैं। क्रिया-विशेषण से क्रिया के समय, स्थान, ढंग और मात्रा का बोध होता है।

प्रश्न: रीतिवाचक क्रिया विशेषण किसे कहते हैं

उत्तर: जिन शब्दों से क्रिया के होने की रीति के ढंग का बोध हो, उन्हें रीतिवाचक क्रिया-विशेषण कहते हैं। जैसे: तेज, धीरे-धीरे, जल्दी-जल्दी, अचानक, जोर से, चुपके-चुपके, धीरे से आदि।

प्रश्न: कालवाचक क्रिया विशेषण किसे कहते हैं

उत्तर: जिन शब्दों से क्रिया के होने के काल (समय) का बोध हो, उन्हें कालवाचक क्रिया-विशेषण कहते हैं। जैसे: कभी कभी, प्रतिदिन, सदैव, हमेशा, दिन भर, सुबह, कल, परसों, हर बार, लगातार, निरंतर, आज, शाम आदि।

इस लेख के बारे में:

यदि आपको यह पोस्ट (क्रिया विशेषण किसे कहते हैं ) अच्छा लगा तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ भेजकर हमारा मनोबल बढ़ा सकते है। यदि आपको इस लेख में कोई भी परिभाषा को समझने में दिक्कत होती है या आपको नहीं समझ मे आते है। तो आप नीचे Comment में अपनी confusion लिख सकते है। मै जल्द से जल्द आपके सवालों का जवाब दूंगा। धन्यवाद! इस पूरे पोस्ट को पढ़ने के लिए और अपना कीमती समय देने के लिए आप सभी का धन्यवाद! आपका दिन शुभ हो!

Facebook
Twitter
WhatsApp
Telegram

Leave a Comment

Trending Post

Request For Post