डॉज कॉइन क्या हैं | Dogecoin Kya Hai

Dogecoin Kya Hai: बिटकॉइन के बाद मार्केट में बहुत सारे क्रिप्टो करेंसी विकसित हुई जो बिटकॉइन की खामियों को भरने का पूरा प्रयास किया। इन्हीं सब क्रिप्टो करेंसी डॉज कॉइन भी शामिल है। आज के इस लेख में हम डॉज कॉइन के बारे में सब कुछ जानेंगे। जैसे कि डॉज कॉइन क्या है? डॉज कॉइन काम कैसे करता है? डॉज कॉइन के फायदे और नुकसान क्या है? आपको डॉज कॉइन में निवेश करना चाहिए या नहीं? निवेश करने से पहले सावधानियां क्या-क्या होनी चाहिए?

Dogecoin Kya Hai

डॉज कॉइन क्या है? ( Dogecoin Kya Hai )

डॉज कॉइन भी अन्य क्रिप्टो करेंसी की तरह एक वर्चुअल डिजिटल करेंसी है। जो पियर टू पियर ओपन सोर्स नेटवर्क पर कार्य करता है। यह भी बिटकॉइन, एथेरियम एवं अन्य क्रिप्टो करेंसी की तरह डिसेंट्रलाइज्ड क्रिप्टो करेंसी हैं। मतलब इसके ऊपर भी किसी भी देश के सरकार का नियंत्रण या अधिकार नहीं है।

डॉज कॉइन एक meme पर आधारित है एक समय अमेरिका में Dog meme बहुत ज्यादा फेमस हुआ। उसी को देख कर डॉज कॉइन मजाक-मजाक में बनाया गया था।

बिटकॉइन के लोकप्रिय होने के बाद बहुत से लोगों ने बिटकॉइन में कुछ खामियां देखी जैसे बिटकॉइन में लेनदेन बहुत ही देर से होता है या बिटकॉइन को बनाने में बहुत ज्यादा एनर्जी की खपत होती हैं, जो कि वातावरण के लिए अच्छा नहीं है इसलिए कुछ लोगों ने अपने खुद के कॉइन बनाने की सोची।

इन कॉइंस को अल्टकॉइन कहा जाता है क्योंकि यह बिटकॉइन के अल्टरनेटिव कॉइन हैं मतलब कुछ ना कुछ नए तरीकों से यह बिटकॉइन के खामियों को भरने की कोशिश करते हैं। जैसे एथियम है।

मार्केट में अल्टकॉइन आने के बाद लोगों को लगा कि अल्टकॉइन बनाना बहुत आसान है और बहुत सारे लोग अल्टकॉइन बनाने शुरू कर दिये।

डॉज कॉइन का मालिक कौन है? ( Dogecoin Ka Malik Kaun Hai )

डॉज कॉइन को 6 दिसंबर 2013 में जैकसन पाल्मर एक ऑस्ट्रेलियन मार्केटर और बिल्ली मार्कस आईबीएम के सॉफ्टवेयर डेवलपर ने डॉज कॉइन को बनाया।

पाल्मर का कहना था उन्हें यह आईडिया मजाक मजाक में आया था क्योंकि उस समय अमेरिका सहित बहुत से देशों में Dog meme बहुत ज्यादा लोकप्रिय था और उस समय क्रिप्टो करेंसी भी मार्केट में लोकप्रिय हो रहा था इन्हीं दोनों चीजों (क्रिप्टो करेंसी और Dog meme) को मिलाकर मजाक मजाक में डॉज कॉइन बनाने का आईडिया मिला। डॉज कॉइन क्रिप्टो करेंसी की दुनिया में चौथे नंबर का करेंसी बन गया है।

डॉज कॉइन कैसे काम करता है? ( Dogecoin Kaise Kam Karta Hai )

डॉज कॉइन एक क्रिप्टो करेंसी है जिसे लाइट कॉइन से Fork किया गया था। Fork का मतलब किसी मौजूदा सॉफ्टवेयर को कॉपी करना और एक नया सॉफ्टवेयर बनाने में इस्तेमाल करने से है।

डॉज कॉइन एक भुगतान प्रणाली के रूप में बनाया गया था जिसमें लेन-देन की सुविधा तुरंत और मजेदार तरीके से होती है। इसमें लेनदेन पर कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं लगता है। यह मुख्य रूप से Meme के रूप में कार्य करता है। 

डॉज कॉइन और बिटकॉइन में अंतर ( Dogecoin Aur Bitcoin Mein Antar )

बिटकॉइनडॉज कॉइन
बिटकॉइन प्रूफ ऑफ़ वर्क तकनीक पर कार्य करता है।डॉज कॉइन भी प्रूफ ऑफ़ वर्क तकनीक पर कार्य करता है।
बिटकॉइन SHA-256 फंक्शन उपयोग करके बनाई गई हैं।जबकि डॉज कॉइन स्क्रिप्ट फंक्शन का उपयोग करता है।
बिटकॉइन में हर ब्लाक को बनाने में 10 मिनट लगता हैजबकि डॉज कॉइन हर ब्लॉक को बनाने में 1 मिनट का लक्ष्य रखता है।
बिटकॉइन प्रत्येक 2016 ब्लॉक के बाद नेटवर्क कठिनाई को समायोजित करता है।जबकि डॉज कॉइन प्रत्येक ब्लॉक बनने के बाद नेटवर्क कठिनाई को समायोजित करता है।
बिटकॉइन की मार्केट में टोटल सप्लाई 21 मिलीयन तक सीमित है।जबकि डॉजकॉइन की मार्केट में सप्लाई असीमित है।
बिटकॉइन माइनिंग पुरस्कार के रुप में प्रति ब्लॉक 50 बीटीसी के साथ शुरू हुआ और प्रत्येक 21 मिलियन ब्लॉक के बाद इसे आधा कर देता हैजबकि डॉज कॉइन में जब आप एक ब्लॉक की माइनिंग करते हैं तो आपको शून्य से एक मिलियन डॉज कॉइन प्राप्त होते हैं।
बिटकॉइन की मूल जरूरी बातें एक White Paper पर अच्छी तरह से परिभाषित किया गया है।जबकि डॉज कॉइन के पास प्रोटोकॉल से संबंधित कोई भी White Paper नहीं है।

डॉज कॉइन के फायदे क्या हैं? ( Dogecoin Ke Fayde Kya Hai )

  • डॉज कॉइन एक meme कॉइन है इसलिए कुछ लोग इसे मजेदार मानते हैं।
  • बिटकॉइन की तुलना में डॉज कॉइन में तेजी से लेनदेन होता है। आमतौर पर इसमें लेनदेन 1 मिनट में हो जाता है।
  • बिटकॉइन की तुलना में डॉज कॉइन की ट्रांजैक्शन फीस भी कम है।
  • डॉज कॉइन माइनर्स को पुरस्कृत रेडिट और ट्विटर पर टिपिंग के रूप में किया जाता है।

डॉज कॉइन के नुकसान क्या है? ( Dogecoin Ke Nuksan Kya Hai )

  • इसे बेहतर बनाने के लिए डेवलपर्स के पास कोई बड़ी योजना नहीं है।
  • इसे माइनिंग करने के लिए शून्य से 1 मिलियन डॉजकॉइन दिया जाता है जिससे या माइनिंग करने वाले लोगों के पास अधिकतम मात्रा में उपलब्ध है जो भविष्य के लिए चिंता का विषय है।
  • इसमें सब कुछ दूसरे क्रिप्टो करेंसी की तरह ही है इसमें कुछ भी नया नहीं है।

डॉज कॉइन का भविष्य क्या है? ( Dogecoin Ka Bhavishya Kya Hai)

वैसे तो डॉज कॉइन को बनाने के पीछे इसके डेवलपर्स का उद्देश्य मजाक और मनोरंजन था परंतु डॉज कॉइन के बढ़ते लोकप्रियता को देखते हुए लोग इसके बारे में रुचि लेना शुरू कर दिये है।

डॉज कॉइन में लोगों ने रुचि लेना तब और ज्यादा शुरू कर दिया, जब टेस्ला कंपनी के मालिक एलन मस्क ने एक ट्वीट के जरिए यह कहा कि डॉज कॉइन मेरा फेवरेट कॉइन हैं और इसका भविष्य भी बहुत अच्छा है।

एलन मस्क के इस ट्वीट के बाद क्रिप्टो करेंसी मार्केट तो जैसे अलग ही लेवल पर ले कर चली गई। क्योंकि डॉज कॉइन में अधिक से अधिक लोग निवेश करने लगे। जिसके कारण डॉजकॉइन का मार्केट वैल्यू बहुत ज्यादा बढ़ गया। डॉजकॉइन की वर्तमान स्थिति को देखते हुए ऐसा लग रहा है कि भविष्य में इसके बढ़ने की संभावनाएं हैं।

यह भी पढे: टीथर क्या है

भारत में डॉज कॉइन कैसे खरीदें? ( Bharat Me Dogecoin Kaise Kharide )

हालांकि भारत में क्रिप्टो करेंसी से संबंधित नियम अभी भी नहीं है। लेकिन भारत के लोग क्रिप्टो करेंसी जैसे बिटकॉइन एथेरियम डॉजकॉइन में निवेश कर रहे हैं। आमतौर पर क्रिप्टो मार्केट में बहुत से क्रिप्टो एक्सचेंज उपलब्ध है जिनके माध्यम से आप क्रिप्टो करेंसी खरीद सकते हैं। WazirX, CoinSwitch Kuber, Unocoin, CoinDCX, Binance यह सब भारत के सबसे लोकप्रिय कॉइन एक्सचेंज प्लेटफार्म है। जिनके माध्यम से आप भारत में डॉज कॉइन को खरीद सकते हैं।

  • सबसे पहले भारत में लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज ऐप्स जैसे WazirX, CoinSwitch Kuber, Unocoin, CoinDCX, Binance को अपने मोबाइल में इंस्टॉल करें।
  • उसके बाद साइन अप बटन पर क्लिक करके उसमें अपना निजी डिटेल जैसे नाम, पता, जन्मतिथि, आप किस देश के निवासी हैं, ईमेल आईडी आदि भरे। और नेक्स्ट बटन पर क्लिक करें।
  • उसके बाद आपके ईमेल को वेरीफाई करने के लिए एक ओटीपी आएगा उस ओटीपी नंबर को डाल कर अपना डिटेल और ईमेल वेरिफिकेशन की प्रक्रिया में आगे बढ़े।
  • इसके बाद आपको केवाईसी वेरीफाई करने का एक विकल्प आएगा, उसमें अपना आवश्यक दस्तावेज जैसे आधार कार्ड, पैन कार्ड का का डिटेल डाल कर सबमिट बटन पर क्लिक करें।
  • केवाईसी वेरीफाई करने के लिए आपका रजिस्टर मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आएगा जिसे उस ओटीपी नंबर को डालकर वेरीफिकेशन कंप्लीट करें।
  • इन सब प्रक्रियाओं के बाद आपका अकाउंट तैयार हो जाएगा।
  • इसके बाद ऐप पर अपनी बैंक डिटेल, यूपीआई आईडी रजिस्टर करें।
  • बैंक डिटेल रजिस्टर होने के बाद एक्सचेंज ऐप में मनी ऐड करें।
  • मनी ऐड करने के बाद इस अकाउंट के माध्यम से आप डॉज कॉइन को खरीद सकते हैं।

क्या आपको डॉज कॉइन मे निवेश करना चाहिए? 

डॉज कॉइन में निवेश करना है या नहीं यह आपके ऊपर निर्भर करता है। डॉज कॉइन और क्रिप्टो करेंसी की बढ़ती लोकप्रियता और मांग को देखते हुए कुछ लोगों का मानना है कि डॉज कॉइन में इन्वेस्ट किया जा सकता है। परंतु डॉज कॉइन के लगातार घटते-बढ़ते कीमत को ध्यान में रखकर तथा मार्केट में हो रहे फ्रॉड और स्कैम को देखते हुए हैं कुछ लोगों का कहना है नहीं।

अगर फिर भी आप डॉज कॉइन में इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो क्रिप्टो करेंसी और डॉज कॉइन के बारे में आपको पर्याप्त सही और सटीक जानकारी ले लेनी चाहिए।

डॉज कॉइन में निवेश करते समय सावधानियां

अगर अब डॉजकॉइन में निवेश करने की सोच रहे हैं तो आपको इससे पहले डॉजकॉइन से जुड़ी कुछ जरूरी बातों को जान लेना अति आवश्यक है। हो सकता है इन सब सावधानियों को ध्यान में रखकर अगर आप निवेश करते हैं तो आपको फायदा हो।

  • डॉजकॉइन में निवेश करने से पहले डॉजकॉइन के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करें।
  • जिस भी एक्सचेंज के माध्यम से आप निवेश करने जा रहे हैं उस एक्सचेंज के बारे में सही जानकारी प्राप्त करें।
  • निवेश करने से पहले डॉजकॉइन के मार्केट की सही तरह से एनालाइज करें, कि मार्केट ऊपर जा रहा है या नीचे आ रहा है।
  • डॉजकॉइन में निवेश करने से पहले जल्दबाजी ना करें पहले निवेश के बारे में जानकारी लेना चाहिए।

प्रश्न: डॉज कॉइन कब लांच हुआ था?

उत्तर: 6 दिसंबर 2013

प्रश्न: डॉज कॉइन को किसने बनाया था?

उत्तर: डॉजकॉइन को एक ऑस्ट्रेलियन मार्केटर जैकसन पाल्मर तथा आईबीएम के सॉफ्टवेयर डेवलपर बिल्ली मार्कस ने बनाया था।

प्रश्न: डॉज कॉइन की वर्तमान कीमत क्या है

उत्तर: डॉजकॉइन की कीमत हमेशा घटती बढ़ती रहती है। इस लेख को लिखने तक एक डॉजकॉइन की वर्तमान कीमत लगभग $0.08406 मतलब 6.901 INR रूपये है।

प्रश्न: डॉज कॉइन की सबसे कम कीमत क्या थी?

उत्तर: डॉजकॉइन जब पहली बार मार्केट में लांच किया गया, उस समय इसकी कीमत 0.00026 सेंट था। जहां सेंट का मतलब अमेरिकी करेंसी डॉलर की सबसे छोटी इकाई से है। लेकिन मई 2015 में इसमें भारी कमी होने के साथ यह $0.00008547 पर आकर रुक गई।

प्रश्न: डॉज कॉइन की सबसे अधिक कीमत क्या थी?

उत्तर: इस लेख लिखे जाने तक डॉजकॉइन की सबसे अधिक $0.7376 मतलब 60.60 INR थी।

Scroll to Top