भाषा किसे कहते हैं (परिभाषा और भेद) | bhasha kise kahate hain

नमस्कार दोस्तों, allhindi.co.in के एक नए लेख में आपका स्वागत है। आज की इस नए लेख में आप भाषा किसे कहते हैं, भाषा के रूप ,महत्व के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करेंगे। इसके पिछले लेख में आपने प्रकाश संश्लेषण के बारे में जाना था। तो आइए जानते है की भाषा किसे कहते हैं?

भाषा किसे कहते हैं। Bhasha kise kahte hain

भाषा वह साधन है, जिसके द्वारा मनुष्य अपने मन के भावों या विचारों को दूसरो बोलकर, सुनकर, लिखकर या पढ़कर अपने मन के भावों या विचारों को दूसरो के सामने प्रकट करता है। अथवा जिस माध्यम से हम अपने भावों या विचारो को दूसरों को समझा सके और दूसरों के भावो को समझ सके उसे भाषा कहते है। जैसे-हिंदी, अंग्रेजी आदि।

भाषा किसे कहते हैं

भाषा’ शब्द संस्कृत की ‘भाष्‘ धातु से लिया गया है, जिसका अर्थ है- भाषित होना, स्पष्ट वाणी अथवा बोलना।मनुष्य के मुख से निकली वे सार्थक (अर्थयुक्त) ध्वनियाँ हैं जो दूसरों तक अपनी भावनाओं को पहुँचाने का काम करती हैं, या स्पष्ट रूप से भाव (अर्थ) बताती हैं, भाषा कहलाती है।

भाषा के गुण 

  1. यह मानव-मुख से उच्चारित होती है।
  2. इसमें सार्थक ध्वनियाँ प्रयुक्त होती हैं ।
  3. प्रत्येक भाषा में ध्वनि प्रतीक होते हैं।
  4. प्रत्येक भाषा की वाक्य संरचना (बनावट) की अपनी व्यवस्था होती है। शब्द व्यवस्थित (एकत्रित) रूप से जुड़कर वाक्य बनाते हैं।
  5. इसमें शब्दों के अर्थ रूढ़ होते हैं, वे बदलते नहीं हैं। हम हाथी को जिराफ और जिराफ को हाथी या मोर नहीं कह सकते।
  6. यह दूसरों व्यक्तियों तक अपनी बात पहुँचाने का कार्य करती है।
भाषा किसे कहते हैं

भाषा के भेद

भाषा के मुख्यत: तीन भेद होते हैं|

  1. मौखिक भाषा (Spoken Language)
  2. लिखित भाषा (Written Language)
  3. सांकेतिक भाषा (Sign Language)

मौखिक भाषा किसे कहते हैं

मौखिक भाषा: जब दो या दो से अधिक व्यक्ति बोलकर अपने मन के भावों या विचारों को एक दूसरे पर प्रकट करते हैं, उसे मौखिक भाषा कहते हैं। वाणी द्वारा बोलकर विचार प्रकट करने का साधन मौखिक या कथित भाषा कहलाता है। मौखिक भाषा को कथित और उच्चरित भाषा भी कहते हैं। बोलना और सुनना मौखिक भाषा के रूप हैं। 

उदाहरण: अध्यापिका बोलकर छात्रों को पढ़ा रही है।

लिखित भाषा किसे कहते हैं

जब मनुष्य अपने मन के भावों या विचारों को लिखकर प्रकट करता है, तो उसे लिखित भाषा कहते हैं। लिखना और पढ़ना लिखित भाषा के रूप हैं।

उदाहरण: राम पत्र लिख रहा है।
वह किताब पढ़ रहा है।

यह भी पढ़े: व्याकरण किसे कहते हैं : व्याकरण के अंग

सांकेतिक भाषा किसे कहते हैं :

जब व्यक्ति संकेतों के माध्यम से अपने विचारों या भावों को प्रकट करता है तो भाषा के इस रूप को, सांकेतिक भाषा कहा जाता है। गूँगे संकेतों द्वारा ही अपने मन के भावों को प्रकट करने का कार्य करते हैं।
उदाहरण: भूख लगने पर बच्चा रोता है।

हिंदी भाषा:

हिंदी भाषा: हिंदी भारत की राष्ट्रभाषा है। यह संस्कृत भाषा की उत्तराधिकारिणी है। भारत में हिंदी भाषा-भाषी जनता की संख्या सबसे अधिक है। इसकी मुख्य विशेषता यह है कि इसके वक्ता (बोलने वालों) से इसके समझने वालों की संख्या कहीं अधिक है। जो लोग हिंदी बोल नहीं सकते, वे भी प्रायः हिंदी को बड़ी ही आसानी से समझ लेते हैं। इसकी लिपि वैज्ञानिक है। 

हिंदी विश्व में सबसे अधिक बोली जाने वाली तीसरी भाषा है। इसीलिए 14 सितंबर का दिन प्रतिवर्ष हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

भारत की 22 भाषाए और उनकी लिपि

Sr. No.भाषालिपि
1.हिंदीदेवनागरी लिपि
2.पंजाबीगुरुमुखी
3.सिंधीदेवनागरी / फारसी
4.कश्मीरीफ़ारसी
5.गुजरातीगुजराती
6.मराठीदेवनागरी
7.उड़ियाउड़िया
8.बंग्लाबांग्ला
9.असमियाअसमिया
10.उर्दूफारसी
11.तमिलब्राह्मी
12.तेलुगुब्राह्मी
13.मलयालमब्राह्मी
14.कन्नड़कन्नड़/ ब्राह्मी
15.कोकडीदेवनागरी
16.संस्कृतदेवनागरी
17.नेपालीदेवनागरी
18.संथालीदेवनागरी
19.डोंगरीदेवनागरी
20.मणिपुरीमणिपुरी
21.वोडोदेवनागरी
22.मैथिलीदेवनागरी/ मैथिली

इससे सम्बंधित लेख:
मातृभाषा किसे कहते हैं
सांकेतिक भाषा किसे कहते हैं? इतिहास, विकास और उदाहरण
संपर्क भाषा किसे कहते हैं?

भाषा से जुड़े कुछ प्रश्न

Ques: हिंदी कौन सी लिपि है?

Ans: देवनागरी लिपि

Ques: व्याकरण के कितने भेद होते है?

Ans: व्याकरण के तीन भेद होते है|
1. वर्ण – विचार
2. शब्द – विचार
3. वाक्य – विचार

Ques: अंग्रेजी कौन सी लिपि है?

Ans: रोमन लिपि

Ques: भाषा के कितने भेद होते हैं?

Ans: तीन भाषा के तीन भेद होते हैं |
1. मौखिक भाषा (Spoken Language)
2. लिखित भाषा (Written Language)
3. सांकेतिक भाषा (Sign Language)

इस लेख के बारे में:

तो आपने इस लेख में जाना की भाषा किसे कहते हैं? इस लेख को पढ़कर आपको कैसा लगा आप अपनी राय हमें कमेंट कर सकते है| इस लेख में सामान्य तौर पर किसी भी प्रकार की कोई गलती तो नहीं है लेकिन अगर किसी भी पाठक को लगता है की इस लेख में कुछ गलत है तो कृपया कर हमे अवगत करे| आपके बहुमूल्य समय देने के लिए और इस लेख को पढने के लिए allhindi की पूरी टीम आपका दिल से आभार व्यक्त करती है|

इस लेख को अपने दोस्तों तथा किसी भी सोशल मीडिया के माध्यम से दुसरो तक यह जानकारी पहुचाये| आपकी एक शेयर और एक कमेंट ही हमारी वास्तविक प्रेरणा है |

Leave a Comment