म्यूचुअल फंड क्या होता है ? विशेषताएं, निवेश का तरीका , फायदा और नुकसान

म्यूचुअल फंड क्या होता है: आपने कहीं ना कहीं म्यूचुअल फंड का नाम अवश्य सुना होगा। अगर कोई व्यक्ति शेयर बाजार में पहली बार निवेश करना चाहता है तो फाइनेंशियल एक्सपर्ट उसे म्यूचुअल फंड में निवेश करने की सलाह देते हैं क्योंकि म्यूचुअल फंड शेयर बाजार की तुलना में कम रिस्की है।

आज के इस लेख में हम म्यूचुअल फंड से संबंधित जानकारी प्राप्त करेंगे और जानेंगे कि म्यूचुअल फंड क्या होता है? म्यूचुअल फंड कितने प्रकार का होता है? म्यूचुअल फंड के फायदे और नुकसान क्या है? म्यूचुअल फंड कैसे कार्य करता है? तो चलिए दोस्तों आज की इस लेख को शुरू करते हैं और जानते हैं-

म्यूचुअल फंड क्या होता है
म्यूचुअल फंड क्या होता है

म्यूचुअल फंड क्या होता है? ( Mutual Fund Kya Hota Hai )

म्यूचुअल फंड एक ऐसा फंड है जो एसेट मैनेजमेंट कंपनी (AMC) या फंड प्रबंधक द्वारा मैनेज किया जाता है। इन कंपनियों में कई लोग अपने पैसे निवेश करते हैं। इसमें निवेशक को अधिक काम करने की आवश्यकता नहीं होती है। मैनेजमेंट कंपनियों के द्वारा इन पैसों को बॉन्ड तथा शेयर मार्केट के साथ-साथ कई दूसरे जगहों पर भी निवेश किया जाता है।

दूसरे शब्दों में कहें तो म्यूचुअल फंड बहुत सारे निवेशकों के पैसे से बना एक फंड होता है जिसे ऐसेट मैनेजमेंट कंपनी के द्वारा मैनेज किया जाता है जो फंड को थोड़ा-थोड़ा करके अलग-अलग कंपनियों एवं वित्तीय संस्थाओं में सुरक्षित निवेश करते हैं। और उसका जो भी रिटर्न मिलता है उस रिटर्न को निवेशकों में बांट दिया जाता है। आइए म्यूचुअल फंड से जुड़े कुछ टर्म्स के बारे में जानते और समझते हैं-

एसेट मैनेजमेंट कंपनी (AMC)

आमतौर पर ऐसेट मैनेजमेंट कंपनी सेबी में रजिस्टर्ड ऐसी कंपनी होती है जो म्यूचुअल फंड स्कीम बनाती है और जब लोग उसमें पैसा निवेश करते हैं तो उन पैसों को अलग-अलग जगहों पर निवेश करने का काम करती है।

एसेट मैनेजमेंट कंपनी (AMC) विशेषज्ञ लोगों की एक ऐसी टीम होती है, जो एक फंड मैनेजर के अधीन काम करती हैं। जिनको यह पता होता है कि निवेशकों के द्वारा निवेश किए हुए पैसे को कहां और कैसे निवेश करना है जिसमें कम से कम नुकसान हो और रिटर्न अच्छा मिल सके।

उदाहरण के लिए मान लीजिए मैंने किसी XYZ कंपनी में निवेश किया। जिसमें 30% शेयर X के पास 15% शेयर Y के पास तथा 20% शेयर Z के पास है। 15% शेयर गवर्नमेंट बॉन्ड्स में लगा है। 15% कैश डेरिवेटिव में और 5% ट्रेजरी बिल में लगा है।

फंड मैनेजर 

किसी भी म्यूचुअल फंड में निवेश करने वाली एसेट मैनेजमेंट कंपनी निवेशकों के पैसे को किसी भी कंपनी में निवेश करने के लिए एक फंड मैनेजर को नियुक्त करती हैं जो म्यूचुअल फंड को भलीभांति जानता है तथा उसका विशेषज्ञ होता है।

म्यूचुअल फंड यूनिट

एक म्यूचुअल फंड के अंतर्गत कई तरह के निवेश विषयों को शामिल किया जाता है। इसमें कई तरह के शेयर और बॉन्ड्स हो सकते हैं। इसी तरह इसमें डेरिवेटिव और ट्रेजरी बिल भी शामिल हो सकते हैं। इस पूरे म्यूचुअल फंड का जो एक हिस्सा होता है, उसे ही म्यूचुअल फंड की एक इकाई या एक यूनिट कहा जाता है।

म्यूचुअल फंड स्कीम

म्यूचुअल फंड कंपनियां बहुत सी म्यूचुअल फंड स्कीम्स चलाते हैं। हर स्कीम में निवेश का लक्ष्य अलग होता है। उदाहरण के लिए कुछ कंपनियां शेयर में पैसा लगाती है तो कुछ कंपनियां गवर्नमेंट बॉन्ड्स पैसा लगाते हैं।

नेट ऐसेट वैल्यू (NAV) क्या है? ( Net Asset Value Kya Hai )

म्यूचुअल फंड की एक यूनिट की कीमत को नेट ऐसेट वैल्यू (NAV) कहते हैं। नेट ऐसेट वैल्यू (NAV) उस म्यूचुअल फंड स्कीम की प्रदर्शन को बताता है।

उदाहरण के लिए मान लीजिए 15 लोगों ने किसी कंपनी में निवेश किया। प्रत्येक निवेशक ने ₹10 में उस कंपनी का एक यूनिट खरीदा। इस प्रकार कंपनी के एक यूनिट की नेट ऐसेट वैल्यू ₹10 होगी।

नेट ऐसेट वैल्यू (NAV) गणना का फार्मूला

न्यू फंड ऑफर (NFO) क्या है? ( New Fund Offer Kya Hai )

नई म्यूचुअल फंड कंपनियां नई-नई स्कीम बाजार में लांच करती रहती हैं, बाजार में किसी न्यू म्यूचुअल फंड स्कीम के लांच करने को ही न्यू फंड ऑफर कहा जाता है।

म्यूचुअल फंड के फायदे क्या है? ( Mutual Fund Ke Fayde Kya Hai )

  • म्यूचुअल फंड में निवेश करने वाले निवेशक को यह सोचने की आवश्यकता नहीं होती है की उसे किस कंपनी में निवेश करना है, उस कंपनी की ग्रोथ क्या थी और क्या है? यह काम फंड मैनेजर का होता है।
  • यह आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप कितने समय के लिए इसमें निवेश करेंगे। क्योंकि म्यूचुअल फंड में आप साप्ताहिक, मासिक, तिमाही, छमाही तथा सालाना स्कीम में निवेश कर सकते हैं। 
  • फंड मैनेजर सही से स्टडी कर फिल्टरिंग के बाद ही शेयरों को सेलेक्ट करता है, जिसके कारण नुकसान होने की संभावना कम हो जाती है।
  • म्यूचुअल फंड पर काम करने वाला फंड मैनेजर अलग-अलग कंपनियों एवं असेट्स में निवेश करता है, जिसके कारण अगर किसी कंपनी में किसी कारणवश मंदी आ भी जाती है तो उसका निवेशक के निवेश पर अधिक प्रभाव नहीं पड़ता है।
  • फंड मैनेजर के द्वारा कुछ चुनिंदा शेयरों पर ही निवेश किया जाता है, आपको हाई रिटर्न भी मिल सकता है।
  • म्यूचुअल फंड में आप ₹500 से ₹1000 से भी एसआईपी की शुरुआत कर सकते हैं, और कुछ समय के बाद एक बड़ी लाभ कमा सकते हैं।
म्यूचुअल फंड क्या होता है

म्यूचुअल फंड के नुकसान क्या है ? ( Mutual Fund Ke Nuksan Kya Hai )

  • म्यूचुअल फंड अस्थिर होते हैं। अतः इनके बारे में सही जानकारी मिल पाना लगभग असंभव है।
  • म्यूचुअल फंड का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि आपको केवल कुछ चुनिंदा शेयरों में निवेश करना होता है जिस कारण टारगेट सफल भी हो सकता और फेल भी हो सकता है।
  • कभी-कभी बाजार में अचानक से अत्यधिक मंदी होने के कारण भी निवेशक को नुकसान होने की संभावना बढ़ जाती है।
  • पैसे को अलग-अलग कंपनियों में निवेश न करने के कारण भी कभी-कभी नुकसान की संभावना होती है।
  • इसमें हाई रिटर्न के साथ-साथ ज्यादा रिस्क की भी संभावना है।

म्यूचुअल फंड में क्यों निवेश करना चाहिए? ( Mutual Fund Mein Kyon Nivesh Karna Chahiye )

म्यूचुअल फंड में निवेश के माध्यम से कई लाभ प्राप्त होते हैं, जो इस प्रकार हैं-

कम लागत: म्यूचुअल फंड आपको किसी भी पोर्टफोलियो स्कीम में 500 रुपए निवेश करने देता है। जिससे एक साधारण निवेशक भी म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकता है।

पारदर्शिता: सेबी द्वारा म्यूचुअल फंड के लिए बनाए गए नियम ने कंपनियों में निवेश बहुत ही आसान और पारदर्शी बना दिया है। इस नियम के अनुसार अब आप अपने निवेश किए हुए पैसे के बारे में यह जानकारी रख सकते हैं कि आपका पैसा किन कंपनियों, क्षेत्रों या स्कीमों में निवेश किया गया है। इसके साथ ही आप अपने निवेश किए हुए पैसे की नियमित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

व्यवसायिक निवेश प्रबंधन: म्यूचुअल फंड में निवेश करने का पहला लाभ यह है कि किसी भी निवेशक को उसके निवेश किए हुए पैसे पर व्यवसायिक प्रबंधन लाभ मिलता है। इसमें निवेशकों को व्यक्तिगत निवेश के बजाय शॉर्ट टर्म या लॉन्ग टर्म में अच्छा व्यवसायिक लाभ मिलता है।

आसान और सुविधाजनक: वर्तमान समय में ऑनलाइन निवेश होने के कारण म्यूचुअल फंड में निवेश करना अत्यंत आसान और सुविधाजनक हो गया है। इसका एक लाभ यह भी है कि आप अपने फंड को आसानी से अपने बैंक खाते में स्थानांतरित कर सकते हैं। यह आपको फंड को स्टोर तथा बदलाव करने का पूर्ण अधिकार देता है।

विविध विकल्प: म्यूचुअल फंड आपको अपने पैसे निवेश करने के लिए अलग-अलग उद्योगों, कंपनियों, वित्तीय संस्थाओं को चुनने का अधिकार देता है। कुछ फंड ऐसे होते हैं, जो ब्लू चिप शेयर, प्रौद्योगिकी शेयर, और बांड के मिक्स पर आधारित होते हैं। जो आपको अत्यधिक लाभ दे सकते हैं।

तरलता: म्यूचुअल फंड के असीमित अवधि वाले स्कीम में आप किसी भी समय अपना पैसा नेट ऐसेट वैल्यू पर कैश के रूप में वापस निकाल सकते हैं।

म्यूचुअल फंड कितने प्रकार का होता है?

म्यूचुअल फंड लोगों के इस इन्वेस्टमेंट पोर्टफोलियो के आधार पर कई प्रकार के होते हैं, जिनमें से कुछ नीचे दिए जा रहे हैं-

  • इक्विटी फंड
  • डेब्ट फंड
  • हाइब्रिडड फंड
  • समाधानोन्मुखी फंड

इक्विटी फंड क्या है? ( Equity Fund Kya Hai )

इस म्यूचुअल फंड में ज्यादातर पैसा कंपनियों के शेयरों में निवेश किया जाता है क्योंकि कंपनियों में निवेश किया गया इक्विटी फंड इक्विटी शेयर के रूप में लाभ देता है।

डेब्ट फंड क्या है? ( Debt Fund Kya Hai )

जब किसी कंपनी को एक्सपेंड करने के लिए कंपनी को फंड्स की जरूरत पड़ती है तो वह निवेशकों से पैसा उधार के रूप में लेते हैं, और निवेशकों को नियमित रूप से एक स्थाई ब्याज देने का वादा करती हैं, इस प्रकार के फंड को डेब्ट फंड कहते हैं।

हाइब्रिड फंड क्या है? ( Hybrid Fund Kya Hai )

यह दोनों तरह के म्यूचुअल फंड (इक्विटी और ऋण) में निवेश करने का ऑफर करते हैं। रिफंड का मुख्य उद्देश्य रिस्क को कम करना और इन्वेस्टमेंट पर अधिक से अधिक रिटर्न देना है।

समाधानोन्मुखी फंड क्या है? ( Samadhanonmukhi Fund Kya Hai )

यह फंड अन्य तीन म्युचुअल फंड से बिल्कुल अलग है। क्योंकि यह फंड एक विशेष प्रकार के लक्ष्य को पूरा करने के लिए बनाया गया है। इस फंड के द्वारा सेवानिवृत्त योजनाओं और बच्चों के शैक्षणिक खर्चों को निधि देने के लिए किया जाता है।

म्यूचुअल फंड कैसे काम करते हैं? ( Mutual Fund Kaise Kam Karte Hain )

म्यूचुअल फंड कंपनियां अलग-अलग निवेशकों से पैसे जमा कराके उस फंड को इक्विटी, बॉन्ड, लोन, गोल्ड या कंपनीयों आदि जगहों पर निवेश करते हैं और उससे प्राप्त रिटर्न को निवेशकों में फंड यूनिट्स के आधार पर बांट देती हैं इस प्रकार इनका मैनेजमेंट कार्य होता है।

क्या म्यूचुअल फंड में निवेश करना सुरक्षित है? ( Kya Mutual Fund Mein Nivesh Karna Surakshit Hai )

आमतौर पर जब भी लोग म्यूचुअल फंड के बारे में सुनते हैं, तो लोग म्यूचुअल फंड की तुलना शेयर मार्केट से करने लगते हैं। और लोगों को शेयर मार्केट की तरह म्यूचुअल फंड में भी जोखिम दिखाई देने लगता है। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। सीधे तौर पर यह कहना कि इस क्षेत्र में कोई जोखिम नहीं है यह भी गलत होगा। परंतु शेयर मार्केट की तुलना में म्यूचुअल फंड में नुकसान होने के चांसेस कम होते हैं।

म्यूचुअल फंड में निवेश कम रिस्की होने का कारण यह है कि इसने निवेशक सीधे तौर पर निवेश नहीं करता है जबकि इसमें निवेश करने के लिए फंड प्रबंधक होते हैं जो इस कार्य में पूरी तरह से कुशल होते हैं। फंड प्रबंधक छोटे-छोटे निवेश कर बाजार के उतार-चढ़ाव और अस्थिरता को अंकुश रखने में काफी हद तक योग्य होते हैं। म्यूचुअल फंड निवेशक को बड़ा रिटर्न देने में भी सहायक होते हैं।

टॉप 10 म्यूचुअल फंड ( Top 10 Mutual Fund )

  • SBI mutual fund
  • L&T mutual fund
  • Axis mutual fund
  • IDFC mutual fund
  • TATA mutual fund
  • Kotak mutual fund
  • HDFC mutual fund
  • UTI assets management
  • Nippon India mutual fund
  • ICICI prudential mutual fund

प्रश्न: म्यूचुअल फंड का हिंदी अर्थ क्या है?

उत्तर: म्यूचुअल फंड का हिंदी अर्थ पारस्परिक धन या लोगों की साझा धन होता है।

प्रश्न: म्यूचुअल फंड का हिंदी अर्थ क्या है?

उत्तर: म्यूचुअल फंड का हिंदी अर्थ पारस्परिक धन या लोगों की साझा धन होता है।

प्रश्न: भारत में सबसे बड़ा म्यूचुअल फंड कौन है?

उत्तर: भारत का सबसे बड़ा म्यूचुअल फंड यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया (यूटीआई) है।

प्रश्न: म्यूचुअल फंड में कितना ब्याज मिलता है?

उत्तर: आमतौर पर म्यूचुअल फंड में SIP के जरिए लगभग 12% प्रतिशत तक ब्याज मिलता है। परन्तु कई बार तो यह ब्याज 15% से 20% तक भी मिल जाता है।

प्रश्न: म्यूचुअल फंड कितने साल तक रखना चाहिए?

उत्तर: अगर आप शॉर्ट टर्म में म्यूचुअल फंड रखना चाहते हैं तो कम से कम 3 साल रखना सही होगा परंतु अगर आप लॉन्ग टर्म में म्यूचुअल फंड रखना चाहते हैं तो आपके लिए 15 साल अच्छा होगा क्योंकि यह आपको एक बेहतर रिटर्न दे सकता है।

प्रश्न: कुल कितने म्यूचुअल फंड हैं?

उत्तर: कुल 17000 से भी अधिक म्यूचुअल फंड योजनाएं बाजार में उपलब्ध है जिसमें आप निवेश कर सकते हैं।

Homepage पे जाने के लिए क्लिक करेClick Here

निष्कर्ष:

उम्मीद करता हूँ की आपको यह लेख ( म्यूचुअल फंड क्या होता है) पसंद आई होगी| अगर आपको शेयर मार्केट से जुड़े कोई भी सवाल या सुझाव पूछना है तो आप हमें कमेंट कर सकते हैं

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top