धातु और अधातु किसे कहते है| धातु-अधातु में क्या अंतर होता है

Amazon और Flipkart पर गारंटीड 50% से 60% तक की छुट पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े। ​

प्रिय पाठक! allhindi.co.in पर आप सभी का स्वागत है | इस लेख में आप सभी को धातु और अधातु से जुड़े सभी जानकारी प्राप्त होंगी। इस लेख में आप इन सभी (धातु और अधातु किसे कहते हैं, धातु और अधातु में क्या अंतर है, उपधातु किसे कहते हैं, धातु और अधातु के भौतिक गुण) के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे।

हम सभी अपने आस पास बहुत सारी वस्तुओ को देखते है। उनमे से कुछ वस्तुये धातु होती है और कुछ वस्तुए अधातु होती है। लेकिन हम सभी के मन में ये सवाल आता है कि धातु और अधातु को कैसे पहचाना जाये आपको इस लेख में इन सभी सवालो को जवाब मिल जायेंगे।

धातु और अधातु किसे कहते है
धातु और अधातु किसे कहते है

धातु और अधातु किसे कहते हैं

धातु की परिभाषा: धातु वे तत्व है जो आसानी से इलेक्ट्रॉनिक त्याग करके धनात्मक आयन बनाते है। धातु परमाणु द्वारा त्याग किये इलेक्ट्रॉन की संख्या पर ही उस धातु की संयोजकता निर्भर करती है। सामान्यतः धातुएँ ठोस और चमकदार होती है। स्वतंत्र इलेक्ट्रॉन के कारण अधिकांश धातुएँ विद्युत की सुचालक होती है।

अधातु की परिभाषा: अधातु वे तत्व है जो इलेक्ट्रॉन ग्रहण करके ऋणायन बनाते है। ग्रहण किए गए इलेक्ट्रॉनों की संख्या पर अधातु की संयोजकता निर्भर करती हैं।

धातु और अधातु के भौतिक गुण

Sr. धातु के भौतिक गुण अधातु के भौतिक गुण
1.धातु प्रायः ठोस रूप में जाए जाते हैं।
अपवाद: पारा सदैव द्रव अवस्था में ही पाया जाता है।
अधातु तीनों अवस्था में पाए जाते हैं।ब्रोमीन ही केवल ऐसा अधातु है जो द्रव अवस्था में पाया जाता है।
2.धातु बहुत ही कड़े एवम् कठोर होते हैं।
अपवाद: सोडियम जिसे चाकू से काटा जा सकता है। Ga एवं Cs एक ऐसी धातु है, जिसे यदि आप अपने हथेली पर रखते है तो वह पिघल जाता हैं।
अधातु मुलायम होते हैं। अपवाद हीरा जो कि कार्बन का एक अपरूप है प्रकृति में पाए जाने सबसे कठोर पदार्थ है।
3.धातु एक ऐसी तत्व है जिसमे एक विशिष्ट प्रकार की चमक होती है।अधातु में धातु की तरह चमक नहीं होते चमक नहीं होता है।
अपवाद: आयोडीन में धातु की तरह ही चमक होती है।
4.धातु ऊष्मा एवं विद्युत का सुचालक होता है। अधातु ऊष्मा एवं विद्युत का सुचालक नहीं होता है।
अपवाद: ग्रेफाइट जो कार्बन का एक अपरूप हैविद्युत का सुचालक होता है।
5.धातु आघातवर्धनीय होते हैं अर्थात उन्हें पीट कर इनकी पतली चादर बनाई जा सकती है।अधातु आघातवर्धनीय नहीं होते हैं।
6.धातु तन्यता के गुण दिखाते हैं अर्थात इनसे तार बनाए जा सकते हैं।अधातु तन्यता के गुण नहीं दिखाते हैं।
7.जब भी कोई धातु को पीटता हूँ तो उसमे से एक विशेष प्रकार की आवाज उत्पन्न होती है। इन्हीं कारणों से धातु को ध्वनिक भी कहा जाता हैं।
उदाहरण जिंक, कैल्शियम, सोडियम
अधातु को पीटने पर गूंजता हुआ स्वर उत्पन्न नहीं होता है, अर्थात अधातु ध्वनिक नहीं होते हैं। उदाहरण कार्बन ऑक्सीजन हाइड्रोजन क्लोरीन हिलियम फास्फोरस आदि।
धातु और अधातु के भौतिक गुण

धातु और अधातु के रासायनिक गुण

धातु के रासायनिक गुण:

1. धातु वायु के साथ अभिक्रिया कर धात्विक ऑक्साइड बनाता है जो क्षारीय प्रकृति का होता है।
धातु + ऑक्सीजन ———–⟶ धात्विक ऑक्साइड
2Cu + O₂ ———-→ 2CuO
4Al+ 3O₂ ———→ 2Al₂O
उभयधर्मी ऑक्साइड: कुछ धातु ऑक्साइड ऐसे होते हैं जो अम्ल तथा क्षार दोनों से अभिक्रिया कर लवण एवं जल देते हैं। ऐसे ऑक्साइड उभयधर्मी ऑक्साइड कहलाते हैं।

उदाहरण:
ZnO, Al2 O,
Al₂O₁ + 6HCI ———–⟶ 2AICI₂ + 3H₂O
Al₂O₁ + 2NaOH ———– 2NaAlO₂ + H₂O

2. धातु की अभिक्रिया जल के साथ

धातु जल के साथ अभिक्रिया कर धातु हाइड्रोक्साइड या ऑक्साइड तथा हाइड्रोजन गैस का निर्माण करती हैं। धातु + जल ———–⟶ धातु ऑक्साइड / धातु हाइड्रोक्साइड + हाइड्रोजन गैस

सक्रिय धातु के साथ जल ठंडी अवस्था में अभिक्रिया कर धातु हाइड्रोक्साइड तथा हाइड्रोजन गैस देते हैं। जैसे सोडियम, पोटैशियम, कैल्शियम आदि|
2Na + 2H₂O ———–⟶ 2NaOH + H₂
Ca + 2H₂O ———–⟶ Ca (OH)₂ + H₂

सक्रियता श्रेणी के मध्य में स्थित रहने वाले धातु जल के साथ गर्म या भाप के साथ अभिक्रिया कर धातु ऑक्साइड तथा हाइड्रोजन गैस देते हैं।
2Al + 3H₂O ———–⟶ Al₂O₂3H₂
3Fe + 4H₂O ———–⟶ Fe₂O + 4H₂
सक्रियता श्रेणी में हाइड्रोजन के नीचे वाले धातु जल के साथ कोई अभिक्रिया नहीं करते हैं।

3.धातु की अभिक्रिया तनु अम्ल के साथ

धातु तनु अम्ल के साथ अभिक्रिया कर लवण तथा हाइड्रोजन गैस प्रदान करते हैं सक्रियता श्रेणी में ऊपर आने वाले सक्रिय धातु तनु अम्ल के साथ बहुत तेजी से प्रतिक्रिया करते हैं। लेकिन जिससे कि उन्हें कंट्रोल करना मुश्किल होता है, प्रयोगशाला में सक्रियता श्रेणी के मध्य में स्थित धातु के साथ तनु अम्ल की अभिक्रिया कराई जाती है।

धातु + तनु अम्ल ———–⟶ लवण + हाइड्रोजन गैस
Zn + 2HCI
———–⟶ Zn CI₂ + H₂

सक्रियता श्रेणी में हाइड्रोजन के नीचे वाले धातु तनु अम्ल के साथ कोई अभिक्रिया नहीं करते हैं। सांद्र सल्फ्यूरिक अम्ल तांबा के साथ अभिक्रिया कर सल्फर डाइऑक्साइड गैस का निर्माण करते हैं।
Cu + 2 H₂SO4 ———–⟶ CuSO + SO₂ + 2H₂O

4. अन्य धातु लवणों के विलयन के साथ धातु की अभिक्रिया:

सक्रियता श्रेणी में ऊपर वाले धातु अपने से नीचे वाले धातु के विलियन से उस धातु कोविस्थापित कर खुद उसका स्थान ले लेता है।
धातु (A) + धातु (B) का विलयन ———–⟶ धातु (A) का विलयन + धातु (B)

अधातु के रासायनिक गुण:

1. अधातु की अभिक्रिया वायु के साथ

अधातु वायु के साथ अभिक्रिया कर उदासीन अधात्विक ऑक्साइड तथा अम्लीय अधात्विक ऑक्साइड बनाती हैं।
उदासीन अधात्विक ऑक्साइड: NO, N₂O, Co
अम्लीय अधात्विक ऑक्साइड: SO₂, SO, NO₂ , CO₂
S + O₂ ———–⟶ SO₂
C + O₂ ———–⟶ CO₂

2. जल के साथ अधातु की अभिक्रिया

अधातु जल के साथ अभिक्रिया नहीं करते हैं। क्योंकि अधातु जल से हाइड्रोजन आयन को विस्थापित नहीं कर सकते हैं, इसलिए अधातु जल के साथ कोई अभिक्रिया नहीं कर पाते हैं।
अधातु + जल ———–⟶ कोई अभिक्रिया नहीं

3. अधातु की अभिक्रिया तनु अम्ल के साथ:

अधातु तनु अम्ल के साथ कोई अभिक्रिया नहीं करते हैं। अधातु तनु अम्ल से हाइड्रोजन आयन को विस्थापित नहीं कर सकते हैं।

4. अधातु के अभिक्रिया लवण विलयन के साथ:

अधातु लवण विलयन के साथ अभिक्रिया नहीं करते हैं, केवल अधिक अभिक्रियाशील अधातु कम अभिक्रियाशील अधातु को उसके विलयन से विस्थापित कर देते हैं। अधातु हैलोजन के साथ अभिक्रिया कर सह संयोजी बंधन वाले यौगिक का निर्माण करते हैं।
H₂ + Cl₂ → 2HCI

सक्रियता श्रेणी क्या है

सक्रियता श्रेणी (Reactivity series): धातुओं को उनके अभिक्रियशीलता के आधार पर अवरोही क्रम में सजाया गया है, जिसमें सबसे अधिक क्रियाशील धातु को सबसे ऊपर तथा सबसे कम अभिक्रियाशील धातु को नीचे रखा गया है।

धातु और अधातु में सक्रियता श्रेणी
धातु और अधातु में सक्रियता श्रेणी

उपधातु किसे कहते है

उपधातु (Semi metal or metalloid): ऐसे तत्व जिनमें कुछ ऐसे गुण जो धातु तथा कुछ गुण अधातु से मिलते हैं ऐसे तत्व को उपधातु कहते हैं।
उदाहरण बोरान-8, सिलिकॉन Si, जर्मीनियम Ge, आर्सेनिक As, एंटीमनी Sb, टेल्यूरियम-Te, पोलोनियम-Po

धातु और अधातु के उपयोग

अधातुधातु
अधातु धातु ऋण आयन होते हैंधातु धनायन होते हैं।
धातु जल के साथ अभिक्रिया कर हाइड्रोजन गैस देते हैं।अधातु जल के साथ अभिक्रिया नहीं करते है|
धातु वायु के साथ अभिक्रिया कर क्षारीय ऑक्साइड बना देते हैं। MgO, ZnO अधातु वायु के साथ अभिक्रिया कर उदासीन या अम्लीय ऑक्साइड बना देते हैं।
धातु हैलोजन के साथ अभिक्रिया ऑक्साइड वैद्युत संयोजी हेलाइड का निर्माण करते हैं । जैसे NaCI, MgCl2 अधातु हैलोजन के साथ अभिक्रिया कर सह संयोजी हेलाइड का निर्माण करते हैं
धातु तनु अम्ल के साथ अभिक्रिया कर हाइड्रोजन गैस देते हैं।अधातु तनु अम्ल के साथ अभिक्रिया नहीं करते हैं।
धातु और अधातु के उपयोग

Q: दो ऐसे धातु का नाम लिखिए जो की हथेली पर रखने पर पिघल जाते हैं।

Ans गैलियम एवं सेजियम (Ga & Cs)

Q: एक ऐसे अधातु का नाम लिखिए जो कि कमरे के ताप क्रम पर द्रव अवस्था में पाया जाता है।

Ans ब्रोमीन

Q: जब धातु तनु अम्ल के साथ अभिक्रिया करता है तो किस गैस का निर्माण होता है?

Ans हाइड्रोजन गैस

Q: दो उभयधर्मी ऑक्साइड का नाम लिखिए।

Ans Al2O3, ZnO

Q: एक ऐसे धातु का नाम लिखिए जो कमरे के ताप पर द्रव है।

Ans पारद

Q एक ऐसे अधातु का नाम बताइए जिसमें धातु की चमक होती है।

Ans आयोडीन

Q कार्बन का एक अपरूप बताइए जो कि विद्युत का सुचालक होता है।

Ans ग्रेफाइट

Q क्या होता है जब लोहा को जब बहुत देर तक भाप के साथ गर्म किया जाता है?

Ans: Fe3O4 Q

Q सोडियम धातु को क्यों केरोसिन तेल में डूबा कर रखा जाता है?

Ans: सोडियम बहुत ही सक्रिय धातु है यह जल के साथ तुरंत तीव्र प्रतिक्रिया करता है जिससे कि हाइड्रोजन गैस का निर्माण होता है तथा जो ऊष्मा उत्पन्न होती है उसके कारण यह तुरंत आग पकड़ लेता है इसलिए इससे केरोसिन तेल के अंदर दबाकर रखा जाता है।

Q कार्बन कौन सा धातु है?

Ans: अधातु

इस लेख का सारांश

इस लेख में हमने आपको बताया की धातु और अधातु किसे कहते हैं। हम आशा करते हैं कि हमारी यह पोस्ट आपकों पढ़ कर अच्छा लगा होगा। यदि आपकों यह लेख पसंद आई है तो कृपया इसे अपने दोस्तों और जरूरतमंद लोगों के साथ social media पर शेयर जरूर करें. साथ ही इस लेख से संबंधित कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट कर सकते हैं

Facebook
Twitter
WhatsApp
Telegram

Leave a Comment

Trending Post

Request For Post