गति किसे कहते है | गति के प्रकार | सूत्र और उदाहरण

Amazon और Flipkart पर गारंटीड 50% से 60% तक की छुट पाने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल से जुड़े। ​

गति किसे कहते है, प्रकार, सूत्र, गति के उदाहरण, गति और वेग के बीच अंतर, गति और विराम में अंतर, वर्तुल गति इत्यादि के बारे में जानेंगे|

गति किसे कहते है

अगर कोई वस्तु समय के साथ अपने स्थिति में परिवर्तन करता है तो वह वस्तु गति में कहलाता है।
जैसे: दौड़ता हुआ बालक, उड़ती हुई पक्षी, चलती हुई गाड़ियाँ, इत्यादि।

विराम अगर कोई वस्तु समय के साथ अपनी स्थिति में परिवर्तन नहीं करता है। तो वह वस्तु विराम की अवस्था में होता है। इस स्थिति कोई हम विराम अवस्था कहते हैं।

गति किसे कहते है | गति के प्रकार | सूत्र और उदाहरण
गति किसे कहते है

गति के प्रकार:

जब भी कोई व्यक्ति वस्तु गति करता है तू गति के बहुत सारे प्रकार होते हैं जिन्हें विज्ञान की दृष्टि से परिभाषित किया जाता है आगे की स्लाइड में हम उन सभी गति के प्रकार के बारे में जानने की कोशिश करेंगे जिन्हें विज्ञान में परिभाषित किया गया है।

सरल रेखीय गति:

सरल रेखीय गति: जब कोई कण एक सरल रेखा में गति करता है , तो यह गति सरल रेखीय गति कहलाती है।

स्थानान्तरीय गति

जब एक वस्तु ( कण नहीं ) एक सीधी रेखा में गतिमान होती है , तो उसकी गति स्थानान्तरीय गति कहलाती है । उदाहरण – क्षैतिज सतह पर लुढ़कती हुई गेंद तथा हाथ से गिरता हुआ पत्थर,सीधी सड़क पर चलती हुई कार।

वृत्ताकार गति | वर्तुल गति किसे कहते है

वृत्ताकार  गति: जब कोई वस्तु अपने वृत्ताकार स्थिति में गति करती है उस गति को वृत्ताकार गति कहते हैं। वृत्ताकार गति को वर्तुल गति भी कहा जाता है।

उदाहरण: धागे से बंधे पत्थर को घुमाना

घूर्णन गति:

घूर्णन गति: जब कोई वस्तु किसी स्थिर अक्ष के परितः इस प्रकार गति करती है कि वस्तु का प्रत्येक कण वृत्तीय पथ पर गति करता है एवं समस्त वृत्तीय पथों का केन्द्र उसके अक्ष पर होता है, तो वस्तु की गति घूर्णन गति कहलाती है।
उदाहरण: छत के पंखे की गति, लट्टू की गति, गोल घूमता लट्टू इत्यादि

दोलन गति:

दोलन गति: जब कोई वस्तु एक निश्चित बिन्दु के इधर – उधर एक सरल रेखीय पथ पर गति करती है, तो यह गति दोलन गति कहलाती है।

आवर्ती गति:

आवर्ती गति: जब कोई वस्तु एक निश्चित समय अंतराल के पश्चात अपनी गति को फिर से दोहराती है इस प्रकार की गति को आवर्ती गति कहते हैं।
उदाहरण: घड़ी में लगी सुईया।

काम्पनिक गति

दोलन करने वाली वस्तु का इसकी माध्य स्थिति की ओर अधिकतम विस्थापन आयाम कहलाता है। यदि आयाम कम है, तो उसकी गति काम्पनिक गति कहलाती है।

उदाहरण: घड़ी के पेण्डुलम की गति।

यह भी पढ़े: सुचालक किसे कहते है

सारांश

यदि आपकों यह लेख (गति किसे कहते है) पसंद आई है तो कृपया इसे अपने दोस्तों और जरूरतमंद लोगों के साथ social media पर शेयर जरूर करें। साथ ही इस लेख से सम्बंधित कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट कर सकते हैं।

Facebook
Twitter
WhatsApp
Telegram

Leave a Comment

Trending Post

Request For Post